1. जापान ने बढ़ाया चीन का सिरदर्द, कहा- भारत नहीं तो हम भी नहीं... - World  आज तक
  2. जापान ने दिया बड़ा बयान, कहा- भारत के बगैर आरसेप में नहीं शामिल होगा  दैनिक जागरण
  3. RCEP : भारत की राह पर जापान, कहा- भारत नहीं तो जापान भी नहीं होगा आरसीईपी में शामिल  Navbharat Times
  4. आरसेप मामले में भारत का साथ देगा जापान, डील से हटने के दिए संकेत  मनी भास्कर
  5. Google समाचार पर पूरी खबर देखें
भारत की गैर-मौजदूगी में जापान भी चीन की अगुवाई वाले  क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (RCEP) पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर भारत की गैर-मौजदूगी में जापान भी चीन की अगुवाई वाले  क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी (RCEP) पर हस्ताक्षर करने से इनकार कर

जापान ने बढ़ाया चीन का सिरदर्द, कहा- भारत नहीं तो हम भी नहीं... - World AajTak

जापान ने साफ तौर पर कह दिया है कि वह भारत की भागीदारी के बगैर रीजनल कॉम्प्रहेंसिव इकोनॉमिक पार्टनरशिप (आरसेप) में शामिल नहीं होगा।जापान ने साफ तौर पर कह दिया है कि वह भारत की भागीदारी के बगैर रीजनल कॉम्प्रहेंसिव इकोनॉमिक पार्टनरशिप (आरसेप) में शामिल नहीं होगा।

Japan gave a big statement said without India it will not join RSEP Jagran Special

Business News: आरसीईपी पर जापान ने कहा है कि अगर समझौते में भारत शामिल नहीं होता है तो वह भी इसका हिस्सा नहीं बनेगा। भारत ने इस महीने यह कहते हुए क्षेत्रीय व्यापार समझौते का हिस्सा होने से मना कर दिया था कि इससे उसके देश के बेहद गरीब लोगों की आजीविका पर प्रतिकूल असर पड़ेगा। Business News: आरसीईपी पर जापान ने कहा है कि अगर समझौते में भारत शामिल नहीं होता है तो वह भी इसका हिस्सा नहीं बनेगा। भारत ने इस महीने यह कहते हुए क्षेत्रीय व्यापार समझौते का हिस्सा होने से मना कर दिया था कि इससे उसके देश के बेहद गरीब लोगों की आजीविका पर प्रतिकूल असर पड़ेगा।

भारत को आशंका है कि चीनी दबदबे वाले आरसेप में शामिल होने से उसके हित प्रभावित हो सकते हैं।भारत को आशंका है कि चीनी दबदबे वाले आरसेप में शामिल होने से उसके हित प्रभावित हो सकते हैं।

आरसेप मामले में भारत का साथ देगा जापान, डील से हटने के दिए संकेत

जुड़ती हुई दुनिया में किसी भी देश को आरसेप जैसे समझौतों से दूर भागने के बजाय उन्हें जितना हो सके अपने पक्ष में बनाना होता हैजुड़ती हुई दुनिया में किसी भी देश को आरसेप जैसे समझौतों से दूर भागने के बजाय उन्हें जितना हो सके अपने पक्ष में बनाना होता है

क्यों आरसेप से बाहर होने का फैसला भारत की आर्थिक ही नहीं बल्कि विदेश नीति पर भी सवाल उठाता है