1. असम: नागरिकता विधेयक पर विरोध तेज़, भाजपा प्रवक्ता ने दिया इस्तीफ़ा  The Wire Hindi
  2. नागरिकता संशोधन विधेयक पर राज्यसभा में बोले राजनाथ सिंह, सिर्फ असम या पूर्वोत्तर के लिए नहीं, पूरे देश के ल...  नवभारत टाइम्स
  3. सिटिजन संशोधन बिल पास होने के बाद BJP प्रवक्ता का इस्तीफा  आज तक
  4. गैर-मुस्लिम अप्रवासियों को नागरिकता देने वाला बिल लोकसभा से पारित, कांग्रेस और TMC ने जताया विरोध  NDTV India
  5. असम की 18 विधानसभा सीटें 'जिन्ना' के हाथों जाने से बच गईं: हेमंत बिस्व शर्मा  नवभारत टाइम्स
  6. Googleसमाचार पर पूरी खबर देखें

ग़ैर-मुस्लिमों को भारतीय नागरिकता प्रदान करने वाले नागरिकता संशोधन विधेयक के लोकसभा में पारित होने के बाद भाजपा के प्रवक्ता मेहदी आलम बोरा ने कहा कि यह विधेयक असमिया समाज के धर्मनिरपेक्ष ढांचे को प्रभावित करेगा, इस पर मैं पार्टी से सहमत नहीं इसलिए पार्टी छोड़ रहा हूं.

गुवाहाटी न्यूज़: राज्य सभा में गृह मंंत्री राजनाथ सिंह ने नागरिकता संशोधन बिल पर सफाई देते हुए कहा है कि यह बिल केवल असम या केवल पूर्वोत्तर राज्यों को लेकर नहीं बनाया गया है। उन्होंने कहा कि इस बिल के तहत देश के किसी भी हिस्से में किसी भी देश से आए उत्पीड़न के शिकार लोगों को भारतीय नागरिकता के लिए आवेदन देने और भारतीय नागरिक के तौर पर रहने का प्रावधान है।

मंगलवार को संसद में केन्द्र सरकार ने नागरिकता संशोधन विधेयक पारित कर दिया है. यह विधेयक बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के छह गैर मुस्लिम अल्पसंख्यक समूहों के लोगों को भारतीय नागरिकता हासिल करने में आ रही बाधाओं को दूर करने का प्रावधान करता है.

राजनाथ सिंह ने संसद की संयुक्त समिति द्वारा यथाप्रतिवेदित नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 पर सदन में हुई चर्चा के जवाब में यह बात कही. उनके जवाब के बाद सदन ने ध्वनिमत से विधेयक को पारित कर दिया. कांग्रेस एवं तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों ने सदन से वॉकआउट किया.

गुवाहाटी न्यूज़: असम के मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने कहा कि वह पीएम नरेंद्र मोदी का आभार व्यक्त करते हैं कि उन्होंने असम की 18 विधानसभा सीटें 'जिन्ना' के खाते में जाने से बचा ली हैं।